स्मृतियाँ


पहली बार हिंदी में पोस्ट लिख रही हूँ | कविताएँ जरूर लिखीं है । मुझे हमेशा हिचक बनी रहती है |हिंदी हमारी मातृभाषा है , किसी से कमतर नहीं पर न जाने क्यों, हिंदी में लिखने का विचार हमेशा मुझे सताता है |  काफ़ी समय से यह पोस्ट ड्राफ्ट्स में रखा हुआ था | मन में विचार आ आ कर रुकते थे की इसे पब्लिश करूँ या नहीं | चूँकि इसमें कुछ खास है नहीं, सिर्फ चंद पंक्तियाँ ही है, परन्तु पता नहीं क्यों दिल को छूती है | आज फाइनली इसे पब्लिश कर रही हु | इसे मैंने नहीं लिखा | कभी बहुत पहले कही पढ़ा या सुना था तो लिख कर रख लिया था | यह आदत है मेरी | कुछ अच्छा सुना या दिल को छूने वाला लेख पढ़ा, या फिर किसी से बात करते वक़्त ही अनायास कुछ अच्छा लगा, तो लिख लेती हूँ |

मैं हमेशा मानती हूँ, कि यह ज़िन्दगी हमें हर वक़्त, हर लम्हा, हर घड़ी कुछ न कुछ सिखाती ही रहती है | इन पंक्तियाँ में भी ऐसा ही कुछ है | जब कभी पढ़ो तो बल प्रदान करती है |

स्मृतियों में हमारे पास हमारी बहुत सी मुस्कानें सुरक्षित होती है | ढेर से दुखों , सुखों और उन पुराने दुखों से उबरने के सुखों की सुखद और भली स्मृतियाँ भी अपनी जगह बना कर स्मृतियों में कही सुरक्षित बनी रहती हैं | और गाहे बगाहे जब हम किसी नए दुःख से टकराते है तो हम स्मृतियों में सुरक्षित उन्ही सुखद और भले दिनों की स्मृतियों की शरणगाह अपनाते है | यहीं से हमें फिर उबरने , फिर लौटने और फिर खड़े होने का सहस भी मिलता है |

 


Linking this post with #Monday Musings

                                                   monday-musings

Advertisements
Categories: Gyan, Hindi | Tags: , , , , , , , | 4 Comments

Post navigation

4 thoughts on “स्मृतियाँ

  1. Its a pleasure to read in Hindi- well written and expressed Anami – wish I could have replied in Hindi too!! Cheers

    Liked by 1 person

  2. It’s a good thing that you are starting to write in Hindi. I disagree that not using Hindi is a sign of forgetting our traditions and values. I feel that every language is to be respected and though English is a foreign language – we can use that to represent our value and tradition. Just a view 🙂

    I will stop by to read your Hindi articles. It’s always such a breath of fresh air:)

    Liked by 1 person

    • You are correct. I was referring to those who are reluctant to use Hindi over other languages. Language, be it any, is a medium to communicate. I am happy that you find a fresh breath in Hindi articles amidst all mediums.

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Filled to Empty

Filled by God. Poured into others.

Joe's Musings

"You become what you think" - Ralph Waldo Emerson. I think I am a writer, do you agree?

Iain Kelly

Fiction Writing

ifs buts ands etcs...

by Vinodini Iyer

Millys Guide

Life, happiness and mental health from the viewpoint of MIlly the Labrador and Lauren the human.

Forty, c'est Fantastique !

La vie est belle !

हिन्दी साहित्य

hindi sahitya by mithilesh wamankar " मिथिलेश वामनकर का वेब पत्र "__________ मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, छत्तीसगढ, बिहार, झारखण्ड तथा उत्तरांचल की पी.एस.सी परीक्षा तथा संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा के हिन्दी सहित्य के परीक्षार्थियो के लिये सहायक

radhikasreflection

Everyday musings ....Life as I see it.......my space, my reflections and thoughts !!

Elena Square Eyes

Thoughts of a twenty-something film fan, reader and geek

%d bloggers like this: