Hindi Poems

निबाह


आसां नहीं यहाँ
रिश्ते निभाना,

न झगड़ना और
हँसी में उड़ाना,

शक से ज्यादा
भरोसे पर भरोसा,

समझदारी से इक-दूजे
का साथ निभाना,

दिल को दिमाग
लगाने न देना,

आसां नहीं यहाँ
रिश्ते निभाना |

– ‘नामी

image


Linking this post with #Monday Musings

                                                   monday-musings

Categories: Hindi Poems, Story Slate | Tags: , , , , , | 5 Comments

मुझे क्या !!


मैंने तो किया है प्यार
तुम करो, न करो
मुझे क्या..

सबका ख़्याल है तुम्हे
मेरा हो न हो
मुझे क्या..

देखते तुम सब हो
समझा, करो न करो
मुझे क्या

मुझे तेरी जरुरत है
तुझे मेरी जरुरत हो न हो
मुझे क्या ..

-अ’नामी

image


Linking this post with #Monday Musings

                                                   monday-musings

Categories: Hindi Poems | Tags: , , , , , , , | 6 Comments

तब और अब


तब, सुबह उठते ही माँ का दुलार
अब, सुबह उठते से जिम्मेदारियों का भर

तब, ज़रा सी चोट पर बैंड ऐड लगवाना
अब, दर्द-ए-दिल भी किसी को न बताना

तब, काम करते  वक़्त कुछ होना और सब को बताना
अब, खुद ही जले का इलाज करना

तब, नींद न आए तो सुबह लेट उठना
अब, रात भर जाग कर भी जल्दी उठना

तब, दिल खोल कर बात करना
अब, दस ख़्यालों में आधा बोलना

-अ’नामी’

 

image

Linking this post with #Monday Musings

monday-musings

Categories: Hindi Poems, Monday Musing, Story Slate | Tags: , , , , , , , | 10 Comments

हो जा ज़रा मतलबी


अकेले आये थे अकेले जाएंगे,
दुनियादारी के चक्कर में क्या पाएंगे ।

सिर्फ अपने लिए, खुल कर जियो
डरो मत बस करो, जो मन कहे वो ।

करो शुक्रिया, ज़िन्दगी जी लो पूरी
कुछ ख्वाहिशें रह न जाये अधूरी ।

-अ’नामी’

image


Linking this post with #Monday Musings

monday-musings

Categories: Hindi Poems, Monday Musing, Story Slate | Tags: , , , , , | 2 Comments

तू..


मेरे मर्ज़ की
है यही दवा एक
तू..

न निराश होऊ
साथ है ‘गर
तू..

न हताश होऊ
है हाथ थामे ‘गर
तू..

हर गम सह जाऊँ
है सामने ‘गर
तू..

मेरे हर मर्ज़ की
है सिर्फ और
सिर्फ दवा एक
तू..

-अ’नामी’


Linking this post with #Monday Musings

monday-musings

Categories: Hindi Poems, Monday Musing | Tags: , , , | 2 Comments

आवाज़


सुन सको तो सुनो

लबों की ख़ामोशी, आँखों की नमी,

और ये कमबख्त, दिल की बेताबी

-अ’नामी’

image

Categories: Hindi Poems, Shayari, Story Slate | Tags: , , , , , , | Leave a comment

मैं अपने प्यार का क्या करू ??


मैं अपने प्यार का क्या करू..

चाहते है उसको इस कदर
उसके साथ चली हर डगर।
क्यों उसे ये समझ नहीं आ पाता
उसके लिए ही ये दिल घबराता।

कोई ये समझाए मुझे,
मैं अपने प्यार का करू..

कोई आइना ऐसा बनाओ
जिसमे वो देखे खुदको
मेरी नज़रों से ।
वो सुने हर बात भी जो..
जो अल्फ़ाज़ न हो पाये
आज़ाद मेरे लबों से ।

चाहत होती हैं न उसे चाहूँ ,
पर मैं अपने प्यार का क्या करू..

-अ’नामी’

Categories: Hindi Poems | Tags: , , | 6 Comments

एकांत


सुनो, कभी तो पढ़ लो तुम ख़ामोशी मेरी,
आज वीरान है शब्दों का गुलदस्ता मेरा ।
-अ’नामी’

image

Categories: Hindi Poems, Shayari, Story Slate | Tags: , , , | 3 Comments

बीती रात


उसने कहा कुछ नहीं
रात भर वो रोती रही

भीगती रही मेरी बाज़ु
उसके आँसुओं से

उसकी नम आँखों का
एहसास मुझे होता रहा

उसे शायद पता न हो
रात भर समेटे मैंने

वो कीमती मोती
अपने आप मैं

मैं कहता नहीं कभी
पर हाँ आज कहता हूँ

मुझे तुमसे प्यार है
बहुत प्यार है
सबसे ज्यादा प्यार है

तुम सबसे खास हो
मेरी जान हो !!

Categories: Hindi Poems | Tags: , , , , , | 2 Comments

काश !!


image

इतने आंसू देते हो तुम
काश , मेरे न होते तुम ।
———–

इतने आंसू देती है तू
काश, मेरे हो जाए तू।

Categories: Hindi Poems, Mish-tories, One Liners, Shayari, Story Slate, Wordless Wednesday | Tags: , , , , , | Leave a comment

सवाल – जवाब


(1)

पीठ करके सो तो रहे हैं,
नींद न तुम्हे आती है
न मुझे

चुप मैं हूँ
गुम तुम भी हो
शब्द सारे कहाँ खो गए

आँखे मूंदी ली, चारों,
पर मैं नहीं सो रही
क्या तुम सो गए ?

(2)

मुझे सीखा दिया ये हुनर ख़ुदा ने
जैसे बीती रात कुछ हुआ ही न हो |
सुबह उठे हम एक दूजे से लिपटे हुए,
बाँहों में एक दूजे की, निश्छल, सरल
जैसे रात को मुँह फेर सोए ही न हो ||

(3)

हर इंसा को सीखा दे ये हुनर ऐ ख़ुदा
जैसे बीती रात कुछ हुआ ही न हो |
सुबह उठे सब गम भुल के, बच्चे की तरह,
जैसे रात को रूठ कर सोया ही न हो ||

Categories: Hindi Poems, Poems | Tags: , , , | Leave a comment

निःशब्द


ख्वाहिश थी एक  ही
तुम्हारी खास बनूँ सिर्फ मैं ही,

किया हर जतन
साथ निभाया हर कदम,

और तुमने क्या किया ??
बड़ी आसानी से कह दिया –

“तूम भी हो औरों की तरह”
और मुझे तुम्हारी और खुद
अपनी ही नज़रों में गिरा दिया !!

शामिल-ए-आम कर दिया,
तुमने ये क्या कह दिया !!

Categories: Hindi Poems, Poems | Tags: , , , , , , | 2 Comments

दो नज़्में


||1||
क्यों बदनाम करे इस प्याले को,
ये तो नादाँ सा हैं ले इस हाला को,
जुर्मी तो ये लब हुए हैं साकी का नाम लेकर,
जो फिर फिर रहे हैं वो राज़ छुपा कर ।

||2||
सुन रे सखी ये बात कहूँ मैं,
तू सुन ले सिर्फ जो हो तेरे मन में,
गर जीना हो तो कर ले अपनी,
गर न जीना हो तो कर जग की ।

Categories: Hindi Poems, Poems | Tags: , , | Leave a comment

मेरी मधुशाला


तू ही साकी तू ही प्याला मेरा,
तू ही मेरे जीवन की हाला,
तुझ बिन कहाँ अस्तित्व मेरा,
तू ही तो मेरी है मधुशाला ||

तेरे बिन न जीवन मेरा,
न मिलेगा मुझे मरघट साकी,
तू ही मेरी साँसे औ’ हाला,
तू ही तो मेरी मधुशाला ||

क्यों तेरे बिना न जीवन मेरा,
क्यों तुझ बिन न मुझे जीना,
तू ही मेरा आज और कल,
तू ही तो मेरी है मधुशाला ||

तू मेरा साकी मैं तेरी हँसती बाला,
तू मेरा प्याला मैं तेरी सुरमयी हाला,
हाय, हम क्यों दूजों के लिए विस्मृत करें,
हमारी ये अविरल जीवन-मधुशाला ||

तू मेरा मतवाला साकी मैं तेरी चंचल बाला,
छक कर पिया करते यह हलाहल का प्याला,
पर दिल का दर्द तो रह गया दिल ही में,
आज फिर नाकाम हुई हैे यह मधुशाला ||

Categories: Hindi Poems, Poems | Tags: , , , | 2 Comments

तलाश


ऐ दिल
कहाँ खो गई मैं,
चल फिर से ढूंढे उसे
खुद की तलाश में,
शुरू सफ़र करे
कदम बढ़ाए ,
मंजिल के लिए

जरुरी है वापस लाना,
उस खोई हुई ‘नामी’ को
खोने न देना उसे,
इस बे-दिल दुनिया में

ऐ दिल
कहाँ खो गई मैं,
चल ले आये वापस उसे
जरुरत है उसकी मुझे ||

Categories: Hindi Poems, Poems | Tags: , , | 4 Comments

Create a free website or blog at WordPress.com.

Filled to Empty

Filled by God. Poured into others.

Joe's Musings

"You become what you think" - Ralph Waldo Emerson. I think I am a writer, do you agree?

Iain Kelly

Fiction Writing

ifs buts ands etcs...

by Vinodini Iyer

Millys Guide

Life, happiness and mental health from the viewpoint of MIlly the Labrador and Lauren the human.

Forty, c'est Fantastique !

La vie est belle !

हिन्दी साहित्य

hindi sahitya by mithilesh wamankar " मिथिलेश वामनकर का वेब पत्र "__________ मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, छत्तीसगढ, बिहार, झारखण्ड तथा उत्तरांचल की पी.एस.सी परीक्षा तथा संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा के हिन्दी सहित्य के परीक्षार्थियो के लिये सहायक

radhikasreflection

Everyday musings ....Life as I see it.......my space, my reflections and thoughts !!

Elena Square Eyes

Thoughts of a twenty-something film fan, reader and geek

%d bloggers like this: